Informational

भारत रत्न सम्मान क्या है और भारत रत्न विजेताओ की सूची

bharat ratna award

Bharat Ratna Award क्या है और भारत रत्न पुरुष्कार विजेताओ की सूची

भारत रत्न भारत का सबसे बड़ा नागरिक सम्मान है भारत रत्न पुरुष्कार उन नागरिकों को दिया जाता है जो देश सेवा में अपना अमूल्य योगदान देते है वो सेवायें इन क्षेत्रो में हो सकती है, कला, साहित्य, विज्ञान, सार्वजानिक सेवा और खेल में अगर कोई नागरिक अपना विशेष योगदान देता है तो उसे भारत रत्न पुरुष्कार दिया जाता है.

इस सम्मान की शुरूआत 02 जनवरी 1954 में भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति श्री राजेंद्र प्रसाद  द्वारा की गयी थी, अन्य अलंकरणों के सामान भारत रत्न को को भी किसी पदवी के साथ प्रयुक्त नही किया जा सकता है. प्रारंभ में भारत रत्न पुरुष्कार को मरणोपरांत देने की कोई व्यवस्था नही थी लेकिन 1995 में इसे मरणोपरांत देने का भी प्रावधान किया गया.

जब भारत रत्न सम्मान को मरणोपरांत देने की व्यवस्था की गयी तो सबसे पहले लाल बहादुर शास्त्री जी को यह सम्मान दिया गया, अब तक भारत रत्न कुल 13 लोगो को मरणोपरांत दिया गया है पर उनमे से नेताजी सुभाष चन्द्र बोस का भारत रत्न वापस ले लिया गया साथ एक वर्ष में अधिकतम 3 लोगो को ही यह सम्मान दिया जा सकता है पर हर वर्ष दिया ही जाये ऐसा कोई भी प्रावधान नही है.

भारत रत्न की बनावट (Bharat Ratna Design)

नागरिको को दिए जाने वाले इस भारत रत्न पुरुष्कार की बनावट 35 मिमी गोलाकार स्वर्ण की बनी थी जिसमे सामने सूर्य बना होता था और उपर हिंदी में भारत रत्न लिखा होता था और नीचे पुष्पहार होता था तथा पीछे की तरफ राष्ट्रीय चिन्ह और सत्यमेव जयते लिखा होता था. पर एक वर्ष बाद इस डिजाईन को बदलकर तांबे के बने पीपल के पत्ते पर प्लेटिनम का चमकता सूर्य बना दिया गया और उसके नीचे चाँदी से लिखा होता है, इसे सफ़ेद फीते में डालकर गले में पहनाया जाता है.

bharat ratna image

bharat ratna image

भारत रत्न से सम्मानित नागरिको की सूची (Bharat Ratna Award List)

सरकार द्वारा अब तक कुल 45 लोगो को भारत रत्न सम्मान से सम्मानित किया गया है जिनके नाम कुछ इस तरह है. (स्रोत विकिपीडिया)

वर्ष विजेताओं के नाम
1954 डॉक्टर सर्वेपल्ली राधाकृष्णन
1954  चक्रवर्ती राज गोपालाचारी
1954  डॉक्टर चंद्रशेखर वेंकटरमण
1955 डॉक्टर भगवान दास
1955 डॉक्टर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया
1955 जवाहरलाल नेहरु
1957  गोविन्द वल्लभ पन्त
1958  डॉक्टर धोंडो केशव कर्वे
1961  डॉक्टर विधनचंद्र राय
1961  पुरुषोत्तमदास टंडन
1962  डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद
1963  डॉक्टर जाकिर हुसैन
1963  डॉ पांडुरंग वामन काणे
1966  लाल बहादुर शास्त्री (मरणोपरांत)
1971  इंदिरा गाँधी
1975  वराहगिरी वेंकट गिरी
1976  के. कामराज (मरणोपरांत)
1980 मदर टेरेसा
1983  आचार्य विनोबा भावे (मरणोपरांत)
1987  खान अब्दुल गफ्फार खां (पहले गैर भारतीय)
1988 एम जी आर (मरणोपरांत)
1990  डॉ. भीमराव अम्बेडकर (मरणोपरांत)
1990  नेल्सन मंडेला (दुसरे गैर भारतीय)
1991 राजीव गाँधी (मरणोपरांत)
1991 सरदार बल्लभ भाई पटेल (मरणोपरांत)
1991 मोरारजी देसाई
1992 मौलाना अबुलकलाम आजाद (मरणोपरांत)
1992  जे आर डी टाटा
1992  सत्यजीत रे
1997  डॉ. ए पी जे अब्दुल कलाम
1997  गुलजारी लाल नंदा
1997 अरुणा आसफ अली (मरणोपरांत)
1998  एम एस सुब्बुलक्ष्मी
1998  सी सुब्रमण्यम
1998  जयप्रकाश नारायण (मरणोपरांत)
1999  पंडित रवि शंकर
1999 अमृत्य सेन
1999  गोपीनाथ बारदोलाई (मरणोपरांत)
2001  लता मंगेशकर
2001  उस्ताद बिस्मिल्लाह खां
2008  पं भीमसेन जोशी
2014  सी. एन. आर. राव (16 नवम्बर 2014 को घोषित)
2014  सचिन तेंदुलकर (16 नवम्बर 2014 को घोषित)
2015  अटल बिहारी बाजपेयी (25 दिसम्बर 2015 को घोषित)
2015 महामना मदनमोहन मालवीय (मरणोपरांत) (25 दिसम्बर 2015 को घोषित)

सन 1992 में नेताजी सुभाष चन्द्र बोस को भारत रत्न से सम्मानित किया गया पर बाद में उनकी विवादित मृत्यु के कारण उन पर सवाल उठने लगे जिसके बाद भारत सरकार ने यह सम्मान वापस ले लिया.

प्रथम भारतीय शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आज़ाद को जब भारत रत्न देने की बात आई तो उन्होंने जोर देकर इस सम्मान को लेने से मना कर दिया, कारण कि जो लोग इसकी चयन समिति में रहे हों, उनको यह सम्मान नहीं दिया जाना चाहिए, बाद में 1992 में उन्हें मरणोपरांत दिया गया.

भारत रत्न रोचक तथ्य ( Interesting facts of Bharat Ratna )

  1. इस सम्मान को देते समय किसी भी जाति या लिंग का भेदभाव नही किया जाता है क्योकि अब तक कुल 45 लोगो को यह सम्मान मिला है जिनमे से 40 पुरुष और 5 महिलाये है.
  2. भारत रत्न को केवल 26 जनवरी को भारत के राष्ट्रपति द्वारा दिया जाता है.
  3. सबसे पहले इसे मरणोपरांत देने का कोई भी प्रावधान नही था पर 1955 में इसे मरणोपरांत भी देने का प्रावधान लाया गया जिसके बाद सबसे पहले लाल बहादुर शास्त्री जी को यह सम्मान मिला और अब तक कुल 13 लोगो को दिया गया है जिसमे से नेताजी सुभाषचंद्र बोस का वापस ले लिया गया है अब कुल 12 लोग है.
  4. भारत रत्न के लिये प्रधानमंत्री राष्ट्रपति को सिफारिश भेजते है जवाहरलाल नेहरु और इंदिरा गाँधी ने पद पर बने रहते हुए सम्मान प्राप्त किया मतलब उन्होंने खुद के लिये सिफारिश की.
  5. सन 1977 में भारतीय जनता पार्टी ने इस सम्मान को बंद करवा दिया पर 1980 में कांग्रेस ने इसे फिर से देना शुर कर दिया.
  6. यह सम्मान में कही नही लिखा की यह सिर्फ भारतीयों को ही दिया जायेगा क्योकि इसे नेल्सन मंडेला और खान अब्दुल गफ्फार खां जो भारतीय नही थे फिर भी उन्हें दिया गया.
  7. एक वर्ष में अधिकतम 3 लोगो को ही यह सम्मान दिया जा सकता है, पर ऐसा कही नही लिखा की इसे हर वर्ष दिया ही जायेगा.
  8. भारत रत्न को नाम के साथ पदवी के रूप में नही इस्तेमाल कर सकते है.
  9. इस सम्मान के साथ कोई भी राशी नही दि जाती है इसमें सिर्फ राष्ट्रपति द्वारा हस्ताक्षर किया हुआ प्रमाणपत्र दिया जाता है और एक मैडल जिसकी कीमत लगभग 257732 है.

भारत रत्न के साथ मिलने वाली सुविधाएँ

  • जीवन भर आयकर नही देना होता है.
  • जीवन भर एयर इंडिया और भारतीय रेलवे के प्रथम श्रेणी में मुफ्त यात्रा.
  • सांसदों की बैठक में भाग लेने की अनुमति.
  • कबिनेट रैंक के बराबर योग्यता.
  • जरूरत पड़ने पर Z ग्रेड की सुरक्षा.
  • VVIP का दर्ज़ा.
  • देश में यात्रा के दौरान state guest की सुविधा.
  • विदेश यात्रा के दौरान भारतीय दूतावास में हर संभव सुविधा.

ये था Bharat Ratna Award के बारे में लेख अगर आपको Bharat Ratna Award पर लिखा गया यह लेख पसंद आया तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर share करे और आप हमें सोशल मीडिया पर फॉलो भी कर सकते है.

Bharat Ratna Award के बारे में अगर आपके पास कोई और जानकारी है या आपको Bharat Ratna Award के इस लेख में कोई त्रुटि मिलती है तो आप हमें संपर्क करके बता सकते है हम आपके आभारी रहेगे.

अन्य पढ़े :-

A Little Introduction Of

Rajaneesh Maurya

रजनीश मौर्या blog4help के डिजाईन, डेवेलपमेंट और सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के विशेषज्ञ है, ये इस साईट के एडमिन भी है| इन्हें वेबसाइट ऑप्टिमाइज़ करना और आर्टिकल लिखना बहुत ही पसंद है|

Leave a Comment