Festivals Trending Now

Muharram Quotes In Hindi, Karbala Shayari

muharram quotes

हेल्लो दोस्तों, जैसा की आप सभी लोग जानते होगे की मुहर्रम बहुत जल्द ही आने वाला है मुहर्रम ताजिया तो आज इस पोस्ट में हम आपको कुछ ऐसे Muharram Quotes बतायेगे जो की आपको मुहर्रम के लिये और उत्साहित कर देगे.

तो दोस्तों सबसे पहले आपको blog 4 help परिवार की तरफ से आपको मुहर्रम की हार्दिक शुभकामनाये तो चलिए अब बात करते है Muharram Quotes की जिसमे शामिल होगे Muharram Shayari in Hindi, Muharram Quotes in Hindi, Karbala Shayari, Sunni Imam Hussain karbala shayari और भी बहुत कुछ.

English Content on muharram

Muharram क्यों मनाया जाता है?

मुहर्रम मुस्लिम धर्म में सिया और सुन्नी दोनों के लिये बहुत ही महत्वपूर्ण त्यौहार है, ये त्यौहार मुस्लिम लोगो के लिये उदासी का दिन है मुहर्रम का मतलब होता है “मना किया हुआ या पापी”.

680 AD में इराक के कर्बला युद्ध में खलीफा यजीद ने युध्द में इमाम हुसैन को मरवा दिया था, उनके मृत्यु के बाद मुस्लिम धरम दो भाग में हो गया मुस्लिम लोग इस त्यौहार को दो तरीके से मानते है.

सिया लोग इस दिन को Hussain Imam Ali की क़ुरबानी का आदर करते है और इस दिन को उनकी क़ुरबानी का दिन मानते है जबकि सुन्नी इसे उदासी का दिन मानते है.



Muharram Quotes in Hindi

आँखों को कोई खवाब तो दिखाई दे,
ताबीर में इमाम का जलवा दिखाई दे,
ऐ Ibn-E-Murtuza तेरे सामने सूरज भी एक छोटा सा ज़रा दिखाई दे.

करबला का गम हर घर में मनाया जायेगा,
Maqsad-E-Shabeer को बताया जायेगा,
याद करके जो न रोये,
कर्बला का प्यास कबर से,
तिस्ना औ महशर में उठाया जायेगा.

सलाम इ हुस्सेन अपनी तक़दीर जागते है तेरे मातम से,
खून की रह बेचते है तेरे मातम से,
अपने izhar-e-aqeedat का सलीका ये हैं,
हम नया साल मनाते है तेरे मातम से.

करीब अल्लाह के आओ तो बात बने,
ईमान फिर से जगाओ तो बात बने,
लहू जो बह गया कर्बला में,
उनके मकसद को समझो तो कोई बात बने.

हुस्सेन की नमाज़ हैं Jabeen-E-Ibn-E-Ali की नियाज़ जारी हैं, खुदा के दिन की Umr-E-Daraz हैं.
सजदे में रख के सर को न उठाया हुस्सेन ने मेरे,
हुस्सेन की नमाज़ अब तक जारी हैं.

जन्नत की आरजू में कहा जा रहा हैं लोग,
जन्नत तो कर्बला में हुस्सेन ने दिया,
जो रहना हो चैन से तो अली से सीखो, मरना हुस्सेन से.

कर्बला को कर्बला के शहंशाह पर नाज़ है
उस नवासे पर मुहम्मद मुस्तफा को नाज़ है
यूँ तू लाकोउन सजदे के मुखुक ने मगर
हुसैन ने वो सजदा किया जिस पर खुदा को नाज़ है

न हिला पाया वो रब की मैहर को
भले जीत गया वो कायर जंग
पर जो मौला के दर पर बैखोप शहीद हुआ
वही था असली सच्चा पैगम्बर.

Aankhon Ko Koi Khwaab
Aankhon ko koi khwaab to dikhayi de Tabeer me
Imam ka jalwa dikhayi de Aye! I
E-Murtuza tere samne
Suraj bhi ek chota sa zarra dikhayi de

सिर गैर के आगे ना झुकाने वाला
और नेजे पे भी कुरान सुनाने वाला
इस्लाम से क्या पूछते हो कौन हुसैन
हुसैन है इस्लाम को इस्लाम बनाने वाला।

A Little Introduction Of

Rajaneesh Maurya

रजनीश मौर्या blog4help के डिजाईन, डेवेलपमेंट और सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के विशेषज्ञ है, ये इस साईट के एडमिन भी है| इन्हें वेबसाइट ऑप्टिमाइज़ करना और आर्टिकल लिखना बहुत ही पसंद है|

Leave a Comment