Informational Internet

Software Kya Hai — सॉफ्टवेयर क्या है?

Software Kya Hai

सॉफ्टवेयर क्या है (Software Kya Hai) और सॉफ्टवेयर के प्रकार : हेल्लो दोस्तों, आज इस पोस्ट में हम बात करेगे सॉफ्टवेयर क्या है (Software Kya Hai) और सॉफ्टवेयर के प्रकार के बारे में. आज के समय में हर किसी के पास स्मार्टफोन और कंप्यूटर में से एक न एक device जरुर होती है पर क्या आप जानते है की ये device सॉफ्टवेयर की मदद से आपका कार्य कर पाती है.

पर क्या आप इस Software के कार्य करने के तरीके को जानते है.

सॉफ्टवेयर क्या है (Software Kya Hai)

सॉफ्टवेयर कंप्यूटर का वह पार्ट होता है जिसे आप केवल देख सकते हैं उसे छू कर  उसे महसूस नहीं कर सकते पर हम अपने सभी काम कर सकते हैं सॉफ्टवेयर का निर्माण कंप्यूटर पर किए जाने वाले कार्यों को आसान और जल्दी होने के लिए  किया जाता है आज के समय में तो सॉफ्टवेयर का निर्माण काम को देख कर किया जाता है यानि हमें जिस तरह का काम होगा हम उसी तरह का सॉफ्टवेयर develope करेंगे.

बड़ी-बड़ी कंपनियां सॉफ्टवेयर को लोगों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए बनाती हैं इसमें से कुछ कंपनियां आपको कुछ सॉफ्टवेयर फ्री में देती हैं और कुछ कंपनियां आपको सॉफ्टवेयर देने के लिए पैसे लेती है.

उदाहरण के लिए जैसे अगर आप अपने कंप्यूटर पर म्यूजिक सुनना चाहते हैं या वीडियो देखना चाहते हैं उसके लिए आपको मीडिया प्लेयर का उपयोग करना पड़ता है जोकि बहुत तरह के होते हैं आप किस का यूज करते हैं यह आप पर निर्भर करता है.

कंप्यूटर कई तरह के प्रोग्राम का संग्रह होता है जिसके द्वारा आप अपने कार्यों को कर सकते हैं कंप्यूटर में 2 भाग होते हैं पहला हार्डवेयर कहलाता है और दूसरा सॉफ्टवेयर.

हार्डवेयर को हम छूकर उनका अनुभव प्राप्त कर सकते हैं जैसे कि मॉनिटर, सीपीयू, माउस और कीबोर्ड इसके अलावा भी कई हार्डवेयर  है जबकि इसके विपरीत सॉफ्टवेयर को हम छू नहीं सकते  हैं और सॉफ्टवेयर हार्डवेयर को उनके कार्य बताते है और उन्हें नियंत्रित करते हैं जैसे कि वर्ड प्रोसेसिंग, ऑपरेटिंग सिस्टम, प्रेजेंटेशन आदि जो कि हार्डवेयर के साथ इंटरफेस करते हैं.

सॉफ्टवेयर की आवश्यकता

अगर आप हार्डवेयर को कंप्यूटर का शरीर और सॉफ्टवेयर को कंप्यूटर का दिमाग कहे तो इसमें कुछ गलत नहीं होगा क्योंकि इनका काम ठीक यही होता है जिस प्रकार दिमाग के बिना इंसान का कोई महत्व नहीं होता है उसी तरह सॉफ्टवेयर के बगैर कंप्यूटर का भी कोई महत्व नहीं होता है.

सॉफ्टवेयर की परिभाषा

कंप्यूटर सॉफ्टवेयर, कंप्यूटर सॉफ्टवेयर का एक हिस्सा है जिसमे डाटा या कंप्यूटर कमांड शामिल होते है, कंप्यूटर हार्डवेयर को access करने के लिये कई प्रकार की कमांड का उपयोग होता है अगर सीधे शब्दों में कहे तो सॉफ्टवेयर का उपयोग होता है.

Software ही कंप्यूटर को बताता है की कौन सा कार्य किस प्रकार करना है उदाहरण के लिये आप किसी भी कंप्यूटर में कोई भी प्रोग्राम एक्सेस कर लीजिये जैसे की प्रेजेंटेशन, वर्डपैड, नोटपैड आदि.

सॉफ्टवेयर के प्रकार

1 – सिस्टम सॉफ्टवेयर – इस में कंप्यूटर के डिफ़ॉल्ट प्रोग्राम शामिल होते है जो की कंप्यूटर के मूल कार्यो को access देते है इनके द्वारा ही कंप्यूटर system में अलग अलग हार्डवेयर नियंत्रण में रहकर एक साथ कार्य करते है यानि इन सॉफ्टवेयर का मुख्य काम हार्डवेयर को मैनेज करना और उन्हें नियंत्रित करना होता है इन्ही की वजह से application software ठीक से अपना काम करते है इन्हें दो भागो में विभाजित किया गया है – System Management Programme और System Utilities Programme.

2 – Application Software – ये वो सॉफ्टवेयर होते है जो की यूजर को एक या एक से अधिक कार्य करने में मदद करते है यह सॉफ्टवेयर विशिष्ट रूप से अनुप्रयोगों के लिये डिजाईन किये गये प्रोग्राम का एक सेट होता है ये यूजर को किसी भी कंप्यूटर से इंटरैक्ट करने में मदद करता है इन्हें यूजर प्रोग्राम भी कहा जाता है.

उपयोग के अनुसार application सॉफ्टवेयर के प्रकार

1 – सामान्य उद्देशीय सॉफ्टवेयर – इस तरह के सॉफ्टवेयर को यूजर की रोजमर्रा की जरूरतों को ध्यान में रखकर बनाया जाता है ये कंप्यूटर प्रोग्राम को सरल कार्य करने का कमांड देते है in सॉफ्टवेयर के उदाहरण आप नीचे देख सकते है-

Word Processing

Database Management

Desktop Publishing

Graphics Software

Presentation

Multimedia Software

2 – विशेष उद्देशीय सॉफ्टवेयर – इन्हें कुछ special कार्यो को ध्यान में रखकर बनाया जाता है इस तरह के सॉफ्टवेयर ज्यादातर पैसे देकर खरीदे जाते है और इन्हें कंपनियों द्वारा उपयोग में लाया जाता है इनके उदाहरण नीचे देखे.

Billing system

Payroll Management system

Hotel Management

Reservation system

Report card Generator

accounting आदि

 सॉफ्टवेयर कैसे बनाते है?

जो व्यक्ति सॉफ्टवेयर बनाता है उसे हम प्रोग्रामर, डेवलपर या फिर सॉफ्टवेयर इंजीनियर कहते है, किसी भी कंपनी के द्वारा प्रोग्रामर को हायर करके उनके द्वारा सॉफ्टवेयर का निर्माण करवाया जाता है या फिर प्रोग्रामर खुद ही अपनी कंपनी ओपन कर लेते है और उनके द्वारा बनाये गये सॉफ्टवेयर का उपयोग हम करते है.

तो दोस्तों ये था सॉफ्टवेयर क्या है (Software Kya Hai) उम्मीद करता हूँ की आपको Software Kya Hai आर्टिकल पसंद आया होगा इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर share करना न भूले और आप हमें सोशल मीडिया पर फॉलो भी कर सकते है.

स्रोत – विकिपीडिया

A Little Introduction Of

Rajaneesh Maurya

रजनीश मौर्या blog4help के डिजाईन, डेवेलपमेंट और सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के विशेषज्ञ है, ये इस साईट के एडमिन भी है| इन्हें वेबसाइट ऑप्टिमाइज़ करना और आर्टिकल लिखना बहुत ही पसंद है|

Leave a Comment